Most Commented

admin's picture

Overview of Mauritian Authors

Mauritius Hindi Lekhak

 

Kalicharan Janardhan (2006), Bhuli Bisri Yadein, Star Publications

Ramdeo Dhurandhar (1986), Pucho Is Mati Se, National Publishing House (NOVEL)

Abhimanyu Unuth (2007), Matam Phuri, Pratibha Pratishthan (Stories)

admin's picture

Powerpoint Competition


admin's picture

Other Events

admin's picture

Reading Competition


admin's picture

Manilal Doctor in Mauritius

Manilal Doctor Hindi Play

To mark the arrival of Indian Indentured Labourers in Mauritius, The Hindi Speaking Union and the Aapravasi Ghat Trust Fund, under the aegis of the Ministry of Arts and Culture organised the Hindi/Bhojpuri play: Manilal Maganlall Doctor Shah in Mauritius. The play is performed by the Academy of Performing Arts under the direction of Mr. Mahess Ramjeeawon. The gala show was held on 30 Oct. 2010 at RTI, Ilot and subsequent representations throughout the island were performed as follows:

admin's picture

Abhimanyu Unnuth

अच्छी तरह से 

admin's picture

प्राथमिक स्कूल-नाटक प्रतियोगिता २०१२

संस्कृति और पालक सद्भाव के रूप में अच्छी तरह के रूप में बढ़ावा देने के लिए थिएटर गतिविधियों की एक नई पीढ़ी तैयार, कला और संस्कृति

admin's picture

मॉरीशस में हिंदी

Hindi

मॉरीशस में हिंदी भाषा का इतिहास लगभग डेढ़ सौ वर्षों का है। स्वतंत्रतापूर्व काल में यह भाषा बीज रूप में थी। भोजपुरी बोली के माध्यम से हिंदी विकसित भाषा को करने में भो तो का विशेष योगदान रहा है। खेतों में कड़ी धूप में गूँजने वाले लोक गीतों में, शाम की "संध्या" में, रामायण-गान में, त्योहारों में, हर कही यह भाषा अबाध्य रूप से बढ़ती चली गई। बैठकाओं में हिंदी भाषा का अध्ययन-अध्यापन होने लगा। भारतीय आप्रवासियों ने अपनी भाषा तथा संस्कृति की शिक्षा को ही अपने बच्चों के उद्वार का उचित मार्ग माना। 1901 में महात्मा गांधी जी की प्रेरणा से ही भारतीय आप्रवासी अपने बच्चों को शिक्षा तथा राजनीति के क्षेत्र में अग्रसर करा पाए।

admin's picture

Professor Danuta Stasik of Poland at the seat of HSU

Prof. Danuta Stasik, a renowned Hindi scholar from Warsaw University, Institute of Oriental Studies in Poland was present in Mauritius on the occasion of World Hindi Day 2012, organised by the World Hindi Secretariat. Below is a report on the Invitation of Prof. at the seat of Hindi Speaking Union: